यूपी पंचायत चुनाव के लिए मतगणना पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, दो-तीन हफ्ते टालने से आसमान नहीं टूट पड़ेगा

इस खबर को दूसरों तक भेजें
  •  
  •  
  •  
  •  

पंकज सिंह ब्यूरो चीफ प्रयागराज- 

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण से बिगड़े हालात के बीच बीते दिनों संपन्न हुए पंचायत चुनाव और रविवार को इसकी मतगणना को लेकर सुप्रीम कोर्ट बेहद गंभीर है। अदालत ने आज इस मामले पर हुई सुनवाई के दौरान राज्य निर्वचान आयोग (राज्य से कड़े सवाल किए। कोर्ट ने राज्य चुनाव आयोग से पूछा कि क्या मतगणना करना जरूरी है, क्या उसको नाराज नहीं किया जा सकता था, अगर तीन सप्ताह टाल दिया गया था) टूटेगा नहीं।
राज्य निर्वाचन आयोग के मतगणना केंद्रों पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने को लेकर भरोसा दिए जाने पर कोर्ट ने तीखी टिप्पणी की। उत्तर प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि काउंटिंग 8 घंटे की शिफ्ट में चलेगी और हर शिफ्ट में अधिकारी बदले जाएंगे। हर शिफ्ट खत्म होने के बाद काउंटिंग सेंटर को सैनेटाइज करने का काम शुरू होगा। 75 से अधिक शिफ्ट लग सकते हैं। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से पूछा कि क्यों ना यूपी में पंचायत चुनाव की मतगणना को 2 सप्ताह के लिए विज्ञापन कर दिया जाए, तब तक हमारा मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर भी सुधरेगा। उम्मीद की जा सकती है कि केवल स्थिति सबसे ज्यादा बेहतर नियंत्रक में होगी।
इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान पूछा कि आप इसे करने की स्थिति में हैं, जीवन के नुकसान को कम करने के लिए। संपत्ति और धन महत्वपूर्ण नहीं हैं। यह जीवन सबसे महत्वपूर्ण है। SC ने यूपी सरकार से पूछा कि हम अभी भी गिनती केंद्रों को समझ नहीं पा रहे हैं। इन केंद्रों पर सैकड़ों कर्मचारी होंगे, कर्मचारियों का क्या होगा? कुछ केंद्र बहुत बड़े नहीं होंगे, आप कैसे समायोजित करेंगे? अदालत की इस बात पर उत्तर प्रदेश सरकार के वकील ने कहा कि 25 हजार से ज्यादा सुरक्षाकर्मी लगाए जाएंगे जो काउंटिंग सेंटर पर दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन करेंगे।

हम सब सामना कर रहे हैं
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि शिक्षक संगठन की तरफ से बताया गया है कि 700 से ज्यादा शिक्षकों की मौत चुनाव के दौरान हुई, आप इस स्थिति को कैसे संभालेंगे। इस पर उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि जिन राज्यों में चुनाव नहीं हो रहे हैं, वहां पर भी कोरोना के मामले और मौतें बढ़ी हैं। दिल्ली में भी मौत की संख्या बढ़ी है। उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि जब पंचायत चुनाव शुरू हुए थे उस दौरान कोरोना कि दूसरी लहर नहीं आई थी। यह भयंकर आपदा है जिसका हम सब सामना कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *